Sick Babies

Just another Jagranjunction Blogs weblog

4 Posts

1 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24952 postid : 1267199

करे ये पांच उपाय, जब बीमार बच्चा न ले दवाई:

Posted On: 4 Oct, 2016 Entertainment,Infotainment,lifestyle में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बच्चे के बीमार पड़ते ही, माँ के लिए अत्यंत पीड़ादायक एवम कष्टकारक स्थिति उत्पन्न हो जाती है! ऐसे में बच्चे को सबसे ज्यादा माँ की आवश्यकता होती है, तब माँ को धीरज बनाये रखना चाहिए और अपने बच्चे का ख्याल रखना चाहिए!

अक्सर बच्चे बीमारी में दवाई लेने से कतराते है, इस से उनकी हालात बनने की बजाय बिगड़ने लगती है, क्या करे ऐसे में:

१. काउंसलिंग करे :

बच्चे को समझाए की दवाई लेना उसके लिए कितना जरुरी है, और दवा लेने के बाद उसे कितना अच्छा महसूस होगा! उसे यह भी बताये के अगर किसी भी हाल में दावा नहीं ली गयी तो परिणामस्वरूप उसे इंजेक्शन भी लगवाना पड़ सकता है!

mill-clipart-dT8LjbaTe

२. ध्यान बँटाये:

बच्चा बीमारी की वजह से तनावग्रस्त रहता है, ऐसे में दावा देखते ही उसे उबकाई आने लगती है! ऐसे में बच्चे का ध्यान बांटने की कोशिश करे, जैसे उस से उसके पसंदीदा प्रोग्राम के बारे में पूछे, उसके स्कूल के बारे में पूछे, उसे किसी खेल कूद में व्यस्त कर दें, या फिर उसकी हालात का भी जायजा ले सकते है! कुछ समय के लिए बाद बच्चा दवा से अपना ध्यान हटाएगा तो बाद में इतनी परेशानी नहीं होगी!

३. दवा को बनायें मजेदार:

जब बच्चा दवा लेने से हिचकिचाए तब दवा को दवा के रूप में पेश ना करे! ऐसे में दवा को बच्चे की मनपसंद चीज़ में घोल कर पिलाये, जैसे रूहआफ्ज़ा के मीठे स्वाद की वजह से दवा का कड़वापन कम् हो जाता है और बच्चे को दवा लेने में परेशानी भी नहीं होती! ठन्डे दूध में मिक्स करके दे सकते है या फिर फ्रूट जूस में भी दवा का स्वाद छिप जाता है!

४. जबरदस्ती ना करे:

जबरदस्ती ना करने से हमारा मतलब दवा ना देना नहीं है, दवा देना उतना ही जरूरी है, जितना की बच्चे की बीमारी को दूर भागना! परंतु बच्चे को दवा देने के लिए जबरदस्ती ना करे, ऐसे में बच्चा उलटी भी कर सकता है और ज्यादा उग्र भी हो सकता है!

अगर बच्चा दवा नहीं ले रहा तब थोड़े समय के लिए दवाई समेत उसके पास से हट जाएँ, और थोड़ी देर बाद फिर कोशिश करे!

५. सही मौका तलाशे:

जी हाँ! सही मौका तलाश लें! जब भी आपका बच्चा टेलीविज़न या अपना मनपसंद कार्टून शो देखने में व्यस्त हो, तब उसके हाथ में दवाई मिला पेय पकड़ा दे! ध्यान रहे, बच्चे को दवा का स्वाद ना पता चले, इसलिए दवा को मीठे पेय में घोलना आवश्यक है! शुरुवात में पेय की मात्रा बहुत कम् रखे, बाद में मांगने पे आप ओर पेय (जूस या दूध) दे सकती है!

इस से आपको दवाई देने में भी दिक्कत नहीं होगी और समस्या भी हल हो जाएगी!

| NEXT



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran